तुम्हारे शहर की बस !

मै रोज सुबह जाता हूँ
तुम्हारे शहर की बस पकड़ने के लिए
पर कभी इसमें मेरे लिए जगह नहीं होती है
और तुम कह सकती हो
इसमें तुम्हारा क्या क़सूर ?